Chupke Chupke Raat Din Lyrics In English & Hindi

1389

Chupke Chupke Raat Din Lyrics In English & Hindi

Chupke Chupke Raat Din Lyrics from Nikaah album. Its lyrics for Hindi songs. You can find this song lyrics in Hindi & English both. This song is sung by Ghulam Ali, this song gave music by  Ghulam Ali and Hasrat Mohani written this song.

Chupke Chupke Raat Din Lyrics
Chupke Chupke Raat Din Lyrics

Song: Chupke Chupke Raat Din
Film: Nikaah
Artist: Ghulam Ali
Music Director: Ghulam Ali
Lyricist: Hasrat Mohani

Chupke Chupke Raat Din Hindi HD video song from Nikaah album. This video is taken from the official channel Saregama Music of YouTube

Chupke Chupke Raat Din Lyrics In English

Chupke chupke raat din aansuu bahanaa yaad hai
Ham ko ab tak aashiqii kaa vo zamaanaa yaad hai
Tujhase milate hi vo kuch Bebaak ho jaanaa meraa
Aur teraa daaton mein vo Ungalii dabaanaa yaad hai

Chori Chori ham se tum aa kar mile the jis Jagah
Muddatein Guzarin par ab tak wo Thikaanaa yaad hai
Khench lenaa vo meraa parde kaa konaa daffaatan
Aur Dupatte se teraa vo Moonh Chhupaanaa yaad hai

Do-pahar ki dhuup mein mere bulaane ke liye
Vo teraa kothe pe nange paaoon aanaa yaad hai pahale pahal dil kaa lagaanaa yaad hai
Jaan kar sotaa tujhe vo qasa-e-paabosii meraa
Aur teraa Thukaraa ke sar vo muskuraanaa yaad hai
Tujh ko jab tanhaa kabhii paanaa to az_raahe-lihaaz
Hal-e-dil baatoon hii baatoon mein jataanaa yaad hai

Jab sivaa mere tumhaaraa koii diivaanaa na thaa
Sach kaho kyaa tum ko bhii vo kaarKhaanaa yaad hai
Gair kii nazaroon se bachakar sab kii marzii ke Khilaaf
Vo teraa chorii chhipe raatoon ko aanaa yaad hai

Aa gaya gar vasl kii shab bhii kahiin zikr-e-firaaq
Vo teraa ro ro ke bhi mujhko rulaanaa yaad hai
Dekhanaa mujhako jo bargashtaa to sau sau naaz se
Jab manaa lenaa to phir Khud ruuTh jaanaa yaad hai

BeruKhii ke Saath sunaanaa Dard-e-Dil kii dastaan
Aur kalaai mein tera vo kangan ghumaanaa yaad hai
Vaqt-e-RuKhsat Alvidaa kaa Lafz Kahane ke liye
Vo Tere Sukhe Laboon kaa thar-tharaanaa yaad hai

Baavajuud-e-iddaa-e-ittaqaa ‘Hasrat’ mujhe
Aaj tak ahad-e-havas kaa ye fasaanaa yaad hai

Chupke Chupke Raat Din Lyrics In Hindi

हूँ आ आ हुम्म्म हूँ…
चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है

तुझ से मिलते ही वो कुछ बेबाक हो जाना मेरा
तुझ से मिलते ही वो कुछ बेबाक हो जाना मेरा
और तेरा दांतों में वो उंगली दबाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

चोरी-चोरी हम से तुम आ कर मिले थे जिस जगह
चोरी-चोरी हम से तुम आ कर मिले थे जिस जगह
मुद्दतें गुजरीं पर अब तक वो ठिकाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

खैंच लेना वो मेरा परदे का कोना दफ्फातन
खैंच लेना वो मेरा परदे का कोना दफ्फातन
और दुपट्टे से तेरा वो मुंह छुपाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

तुझ को जब तनहा कभी पाना तो अज राह-ऐ-लिहाज़
तुझ को जब तनहा कभी पाना तो अज राह-ऐ-लिहाज़
हाल-ऐ-दिल बातों ही बातों में जताना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

आ गया गर वस्ल की शब् भी कहीं ज़िक्र-ए-फिराक
आ गया गर वस्ल की शब् भी कहीं ज़िक्र-ए-फिराक
वो तेरा रो-रो के भी मुझको रुलाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

दोपहर की धुप में मेरे बुलाने के लिए
दोपहर की धुप में मेरे बुलाने के लिए
वो तेरा कोठे पे नंगे पांव आना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

गैर की नज़रों से बचकर सब की मर्ज़ी के ख़िलाफ़
गैर की नज़रों से बचकर सब की मर्ज़ी के ख़िलाफ़
वो तेरा चोरी छिपे रातों को आना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

बा हजारां इस्तिराब-ओ-सद-हजारां इश्तियाक
बा हजारां इस्तिराब-ओ-सद-हजारां इश्तियाक
तुझसे वो पहले पहल दिल का लगाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

बेरुखी के साथ सुनना दर्द-ऐ-दिल की दास्तां
बेरुखी के साथ सुनना दर्द-ऐ-दिल की दास्तां
वो कलाई में तेरा कंगन घुमाना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

वक्त-ए-रुखसत अलविदा का लफ्ज़ कहने के लिए
वक्त-ए-रुखसत अलविदा का लफ्ज़ कहने के लिए
वो तेरे सूखे लबों का थर-थराना याद है
हम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है
चुपके चुपके रात दिन..

This Song Written by- Hasrat Mohani